पीएम मोदी और जन औषधि केंद्र द्वारा स्वतंत्रता दिवस के आयोजन का खुलासा

Now store is getting open from 10,000 to 25,000.

भारत ने अपने 76वें स्वतंत्रता दिवस को उत्साह और उमंग के साथ मनाया, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिखाया गया पत्रिका भाषा और नागरिकों के कल्याण के प्रति समर्पण का प्रतीक है। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की यादें और उसके जीते जाने की बड़ी कदर करते हुए, प्रधानमंत्री मोदी ने इस मौके का इस्तेमाल स्वातंत्र्य, एकता, और देश की आज़ादी के बाद के शानदार कदमों की महत्वपूर्णता को बताने के लिए किया। उन्होंने जन औषधि केंद्र पहल की महत्वपूर्ण उल्लेख किया, जो मानवता को सस्ती दवाओं की पहुंच सुनिश्चित करने में मदद करती है।

सरकार जन औषदि केन्द्रो की संख्या में होगी फिर से बढ़ोतरी अब 10,000 से बढ़कर होगी 25,000. इससे अब और जनता को मिलेगा सहयोग। जैसे 100 वाली दवाई स्टोर पर हमें मिलती है अब वही दवाइओ को 10 से 15 रुपया में कराया जायेगा उपलब्ध। अब सबको मिलेगी सस्ती दवाइया और वो भी आपके घर के पास ही उपलब्ध होगी।

संघर्ष की यादों का समर्पण, विजय की सीरी

भारत में स्वतंत्रता दिवस केवल कैलेंडर पर एक तारीख नहीं है; यह उन शूरवीरों की साहस, त्याग, और अविचल स्प्रित का प्रतिबिम्ब है जिन्होंने अपनी जान देकर देश को उपनिवेशी शासन से मुक्त कराने के लिए संघर्ष किया। यह दिन उन अनगिनत स्वतंत्रता सेनानियों की याद में है जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए वीरता संघर्ष किया। यह उनकी यादों को समर्पित है और भारत ने विभिन्न क्षेत्रों में की गई प्रगति की प्रशंसा करने के लिए है। और ये प्रण भी लिया की जितनी भी औषदीया उन्हें सस्ते मूल्यांकन पर उपलब्ध कराई जा सकती है। वह करते रहेंगे इसलिए जन औषधि स्टोर में होगी और बढ़ोतरी।

पीएम मोदी का आत्मनिर्भर भारत का द्रिष्टिकोड

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र को समर्पण की नजर से आत्मनिर्भर भारत का द्रिष्टिकोड पुनः सामने रखा। उन्होंने बताया कैसे भारत ने प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष अन्वेषण, और स्वास्थ्य सेतु में उल्लेखनीय जीत की प्राप्त की है। इनमें से एक विशेष पहलू था उनकी जन औषधि केंद्र पहल की जो सस्ती दवाओं को सभी के लिए पहुंचाने में एक गेम-चेंजर साबित हुई।

जन औषधि केंद्र: स्वास्थ्य पहुंचने की क्रांति

जन औषधि केंद्र भारतीय प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत मिशन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो हर नागरिक को गुणवत्ता वाली औषिधिया उपलब्ध कराई जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!