पीएम नरेंद्र मोदी के हैदराबाद पहुंचते ही उनकी आलोचना करने के लिए पोस्टर दिखाई दिए

पीएम नरेंद्र मोदी के हैदराबाद आगमन पर, उनके स्वागत में नहीं, बल्कि उनकी आलोचना करने के लिए पोस्टर दिखाए गए

पीएम नरेंद्र मोदी के हैदराबाद आगमन पर, उनके स्वागत में नहीं, बल्कि उनकी आलोचना करने के लिए पोस्टर दिखाए गए

जैसे ही पीएम नरेंद्र मोदी आज दोपहर शहर में पहुंचे, उनका स्वागत पोस्टर और बहुत सारे सवालों के द्वारा स्वागत किया गया, जिसमें तेलंगाना के गठन पर संसद में उनकी हालिया यह टिप्पणियों और राज्य से किए गए अधूरे वादों पर सवाल उठाए गए।

कुछ महीने पहले जब श्री मोदी वारंगल में एक सार्वजनिक बैठक के लिए हैदराबाद गए थे तब भी इसी तरह के पोस्टर चिपकाए गए थे। पोस्टरों को सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) से जोड़ा जा रहा है, जो पिछले कुछ महीनों से प्रधानमंत्री के खिलाफ आवाज उठा रही है, हालांकि पोस्टरों पर किसी का भी नाम नहीं है।

इन पोस्टरों में मोदी द्वारा तेलंगाना पर की गई विभिन्न टिप्पणियाँ पढ़ी गईं: ‘मोदी को तेलंगाना जाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है और आंध्र प्रदेश से तेलंगाना के विभाजन के संदर्भ में अगर कुछ कहा जाये’ तो यह होगा की बच्चे को बचाने के लिए माँ को मार डाला गया’।

कुछ पोस्टरों में श्री मोदी से Palamuru-Rangareddy लिफ्ट सिंचाई योजना (PRLIS) को राष्ट्रीय दर्जा देने से केंद्र के ‘इनकार’ और निज़ामाबाद में किसानों के लिए हल्दी बोर्ड स्थापित करने में विफलता कई तरह से सवाल उठाया गए, जैसा कि निज़ामाबाद के सांसद धर्मपुरी अरविंद ने अपने चुनाव अभियान के दौरान कई वादा किया थे। .

जैसे ही प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी आज दोपहर शहर में पहुंचे, उनका स्वागत पोस्टर और उनसे प्रशन पूछे जा रहे थे यह प्रशन सारे इस तरह प्रतीत होते दिखाई दिए जैसे उड़ते हुए प्रशन पूछे जा रहे हो, जिसमें तेलंगाना के गठन पर संसद में उनकी हालिया टिप्पणियों और राज्य से किए गए अधूरे वादों पर सवाल उठाए गए।

कुछ महीने पहले जब श्री मोदी वारंगल में एक सार्वजनिक बैठक के लिए हैदराबाद गए थे तब भी इसी तरह के पोस्टर चिपकाए गए थे। पोस्टरों को सत्तारूढ़ भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) से जोड़ा जा रहा है, जो पिछले कुछ महीनों से प्रधानमंत्री के खिलाफ आवाज उठा रही है, हालांकि पोस्टरों पर मुद्रकों का नाम नहीं है।

फिर पोस्टरों में मोदी द्वारा तेलंगाना पर की गई विभिन्न टिप्पणियाँ पढ़ी गईं: ‘मोदी को तेलंगाना जाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है और आंध्र प्रदेश से तेलंगाना के विभाजन के संदर्भ में अगर कुछ कहा जाये’ तो यह होगा की बच्चे को बचाने के लिए माँ को मार डाला गया’।

कुछ पोस्टरों में श्री मोदी से Palamuru-Rangareddy लिफ्ट सिंचाई योजना (PRLIS) को राष्ट्रीय दर्जा देने से केंद्र के ‘इनकार’ और निज़ामाबाद में किसानों के लिए हल्दी बोर्ड स्थापित करने में विफलता पर कई तरह से सवाल उठाया गए, जैसा कि निज़ामाबाद के सांसद धर्मपुरी अरविंद ने अपने चुनाव अभियान के कई दौरान वादा किया थे। .

यह पहली बार नहीं है कि सत्तारूढ़ बीआरएस ने इस तरह के पोस्टर के साथ प्रधान मंत्री का स्वागत किया है। इस वर्ष मार्च में उनके अंतिम कार्यकाल के दौरान शहर भर में इसी तरह के पोस्टर लगे थे जिनमें आरोप लगाया गया था कि श्री मोदी लोकतंत्र को नष्ट करने वाले और पाखंड के जनक हैं। उस समय दिल्ली उत्पाद शुल्क नीति मामले के सन्दर्भ में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा बीआरएस एमएलसी, के. कविता के द्वारा पूछताछ को लेकर भाजपा और बीआरएस के बीच संबंध निचले स्तर पर थे।

वास्तव में, जब सितंबर में हैदराबाद में कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक हुई थी, तब इसी तरह के पोस्टर जाहिर तौर पर बीआरएस कैडर द्वारा चिपकाए गए थे। उस समय के कई पोस्टरों में सोनिया गांधी और राहुल गांधी समेत कांग्रेस नेतृत्व को निशाना बनाया गया था और ‘भ्रष्ट कार्य समिति में आपका स्वागत है’ जैसे बयान बाज़ी की गयी थी।

 

Read More about स्वच्छता भारत अभियान

One thought on “पीएम नरेंद्र मोदी के हैदराबाद पहुंचते ही उनकी आलोचना करने के लिए पोस्टर दिखाई दिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!